शुक्रवार, 17 जून 2011

साँवली -अलबेली







कोयल श्याम रंग रंगी इब चढ़े न कोई दूजो रंग

4 टिप्‍पणियां:

  1. मैं अलबेली, घूमूँ अकेली :)
    कमाल की नज़र पायी है पारुल जी... वैसे आपका कैमरा कौन सा है ?

    उत्तर देंहटाएं
  2. camera- NIKON

    कमाल कोयल का । मै पूरी दोपहर इसे देखती रही

    उत्तर देंहटाएं
  3. गीत में तो सुना था
    "अम्बुआ की डारी पे बोले रे कोयलिया .."
    लेकिन इनकी तो पसंद कुछ और निकली

    बहुत लुभावना चित्र है !!

    उत्तर देंहटाएं