शनिवार, 11 जून 2011

पुकारता रहा हृदय, पुकारते रहे नयन





मगर निठुर न तुम रुके, मगर निठुर न तुम रुके!
पुकारता रहा हृदय, पुकारते रहे नयन,
पुकारती रही सुहाग दीप की किरन-किरन,
निशा-दिशा, मिलन-विरह विदग्ध टेरते रहे...

मगर निठुर न तुम रुके!

गोपालदास "नीरज"

2 टिप्‍पणियां:

  1. गोपाल दास जी तो महान हैं...आप इस नीरज को भी सुन लें:

    जी चाहता है सुर में, उसके मैं सुर मिला दूँ
    आवाज़ कब से कोयल, पी को लगा रही है



    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  2. Thnx for koyal darshan...more meaningful than poem because poem only u can relate to and the picture i too can relate to !

    उत्तर देंहटाएं