बुधवार, 12 जून 2013

कलेवा





 चेरी वृक्ष  पर कलेवा करते पंछी  ( मनाली )

12 टिप्‍पणियां:

  1. आप जितना अच्छा लिखती हैं , गाती हैं उतनी ही अच्छी फोटो ग्राफर भी हैं --आपकी खींची फोटो बोलती है, उसमें रंग हैं और कविता भी --- अद्भुत। आपके इस हुनर को सलाम

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  2. सोच में हूँ पंछियों की तारीफ़ करूँ या चेरी ट्री की या आपके कैमरे की या आपकी नज़र की... बहुत बहुत बहुत सुन्दर तस्वीरें... पहली वाली फ़ोटो इस वक़्त हमारे डेस्कटॉप का वॉलपेपर है :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. Thanks Richa

    vaisey tareef panchhiyon ki honi chahiye ...sare Kartab unke :))

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह! पक्षी के चेरी खाते हुए लिए फोटोज़ ज़ोरदार हैं!

    उत्तर देंहटाएं
  5. मैं कहूंगी घर से लौटने पर भी न पहाड़ छूटते हैं, न परिंदे! हिमाचल वाले घर की याद दिला दी इन ख़ूबसूरत पंछियों ने. :-)

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह.अति सुन्दर तस्वीरें. आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह, क्या बला की तसवीरें लेती हैं आप। सही रंग समिश्रण और नपा तुला Aaperture.

    उत्तर देंहटाएं